राम का नाम

06 Oct 2018 Comments: 0 Views: 
91uO+3zcXQL.png
Ravi-Kumar-Sinha
Posted by Ravi-Kumar-Sinha
धर्म अगर अफीम है, तो पीते सबसे ज्यादा भारतीय ही हैं. इतना बड़ा देश, 130 से ज्यादा करोड़ लोग, विश्व के सभी धर्मो का निवास, और सबसे बड़ी बात धर्म और राजनीति का घाल-मेल, ये सभी मिलकर ऐसा वातावरण पैदा करते हैं जिसमें समाज के बिखरने की पूरी संभावना होती है. आजादी के बाद से समाज में सद्भाव कम और बिखराव ज्यादा देखने को मिला है. हालिया कुछ वर्षों में ये बिखराव का आग तेजी से बढ़ रहा है और इसे हमारे रहनुमा, हमारे नेता जानते भी है मगर वो इसे कभी बुझाने की कोशिश नहीं करते है बल्कि गाहे-बगाहे इसमें घी डालते रहते है ताकि उनका हित सधता रहे. सत्ता की सीढियों पर चढ़ने में कोई परेशानी न हो. पार्टी चाहे कोई भी हो, बड़े पदों पर बैठे हुए नेता चाहे जो भी हों वो धर्म का नाम लेकर अपना हित साधने में कभी भी पीछे नहीं हटते हैं. जनता की धार्मिक पहचान या सही मायनों में धार्मिक कमजोरी को भुनाने का खेल बदस्तूर जारी है और उम्मीद यही है कि ये कभी ख़त्म नहीं होगी.
Tags: None

About the Author

Ravi-Kumar-Sinha



This news item is from RightRaviWrite
http://ekbihari.com/view/news.php?extend.8